जय श्री महाकाल! Jay Mahakal

*मानव कितने भी प्रयत्न कर ले*  

            *अंधेरे में छाया* 

            *बुढ़ापे में काया*

                    *और*

          *अंत समय मे माया* 

       *किसी का साथ नहीं देती*

  

कर्म करो तो फल मिलता है,

       आज नहीं तो कल मिलता है।

जितना गहरा अधिक हो कुँआ,

        उतना मीठा जल मिलता है ।

जीवन के हर कठिन प्रश्न का,

        जीवन से ही हल मिलता है।

                ¸.•*””*•.¸ 

            

      “”सदा मुस्कुराते रहिये””

             

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE