1947 ka Dor! गोरिया…. 

​सन् 1947 में गोरे गए तो गए!

.

.

 पर,

.

.

 गोरियाँ क्यों चली गयी? 
हमें तो उनसे कभी कोई शिक़ायत ही नही थी। 

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE