April Fool History! अप्रैल फूल का इतिहास 

April Fool Day History Facts Shayari In Hindi देश विदेशों में कई तरह से दिवस मनाये जाते हैं लेकिन इन सभी दिवसों के बीच एक दिन आता हैं जिसे हम मुर्खता दिवस / अप्रैल फूल डे के रूप में जानते हैं . एक ऐसा दिन जिस दिन हमें अपनों के साथ मजाक करने का एक अधिकारिक अवसर प्राप्त हो जाता हैं . कई प्रकार से हम अपने दोस्तों, भाई, बहनों और अन्य खास लोगो को बेवकूफ बनाने की तरकीब सोचने लगते हैं और पुरे जोश के साथ अपनी तरकीब को मूर्त रूप भी देते है और सफलता मिलने पर जोर जोर से ठहाके लगाते हैं और चिल्ला चिल्लाकर कुछ प्रसिद्द पंक्तियाँ कहते हैं “अप्रैल फूल बनाया,तो तुमको गुस्सा आया, इसमें मेरा क्या कसूर, ज़माने का कसूर, जिसने दस्तूर बनाया, अप्रैल फूल बनाया ” इन्ही प्रसिद्द पंक्तियों के कारण मेरे मन में यह जिज्ञासा उठी कि आखिर क्यूँ इस तरह का दिन मनाने की प्रथा शुरू हुई ? अजीब लगता हैं कि मुर्ख बनाने का भी कोई दिवस हैं जिसे दुनियाँ के सभी देश मनाते हैं . जब मुझे इस बात की जानकारी मिली तो मैंने सोचा इसे अपने पाठको के साथ शेयर करूँ .

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE