Doctor Police God! भगवान पुलिस, डॉक्टर 

​तीन लोग स्वर्ग के दरवाज़े पर खड़े थे।

पुजारी, डॉक्टरऔर टीचर.!

भगवान : सिर्फ एक ही सीट खाली है स्वर्ग में ।
पहला: मैं पुजारी था। सारी उम्र आपकी सेवा की है ।दिन रात आपकी पूजा की है।

दूसरा: मैं डॉक्टर था। सारी उम्र लोगों की सेवा की है । दिन को दिन और रात को रात नहीं समझा।

तीसरा: मैं एक पुलिस वाला था और मैंने ड्यूटी के साथ साथ  
दिन में ड्यूटी की,
फिर रात में गस्त की
फिर रोड गस्त की
फिर वाहन चेक, लॉज, होटल, ढाबे, बैंक, डाकघर, धार्मिक स्थल चेक किये
निगरानी बदमाश से चेक किये
मुलजिम पेशी कराई
मुलजिम को जेल छोड़ा
पेंशनरों की चेकिंग
थाने की साफ सफाई और रंगाई पुताई
धार्मिक एवं राजनैतिक रैलियां निकलवाने में सुरक्षा की

भुजरिया, जन्माष्ठमी, डोल ग्यारस, अनंत चौदस, नवरात्रि, नवरात्री विसर्जन, दशहरा, दीपावली, महाशिवरात्रि, होली, रँगपंचमी, रामनवमी, हनुमान जयंती, आर एस एस पथ संचलन, मोहर्रम-ताजिये, मीठी ईद, बकरीद, मिलादुन्नबी जलसा, गुरुनानक जयंती, सहित सभी धर्म प्रेमियों के धार्मिक त्यौहार, एवं जयन्तियां में यातायात एवं सुरक्षा व्यवस्था करना
गांव-गांव में रक्षा समिति गठित करना
जुलुस जलसा, नेताओ की आम सभा में सुरक्षा व्यवस्था की
साधू संतो के प्रवचन की सुरक्षा व्यवस्था
कानून व्यवस्था, रोड व्यवस्था, व्ही आई पी की सुरक्षा व्यवस्था की
आदि ड्यूटियां करना
रिपोर्ट लिखना
स्थाई रिकार्ड मेंटेन करना
चुनाव में चुनाव ड्यूटी सुरक्षा एवं शांति पूर्ण चुनाव करवाने की व्यवस्था करना
शांति समिति की मीटिंग का आयोजन करना

बोर्ड परीक्षा ड्यूटी करना
 अपराधियो पर निगाह रखना
 क्षेत्र में अपराध न होने देना
यदि अपराध हो भी गया तो तुरन्त सुरक्षा व्यवस्था करना
अगर कोई घायल हुआ तो तुरन्त चिकित्सा व्यवस्था हेतु निकट के शासकीय अस्पताल लेकर जाना और उपचार करवाना
कोई एक्सिडेंट हो गया तो उसको भी उपचार करवाना, जानमाल की सुरक्षा करना
न्यायालय मेंचालान पेश करना
न्यायालय में साक्षी पेश करना
 यदि आरोपी न्यायालय से गैरहाजिर हो गया हो तो न्यायालय में पेश करना
समन्स वारंट तामील करवाना
अपराधी अपराध करके फरार हो गया हो तो पटवारी व् तहसीलदार से चल-अचल सम्पत्ति का विवरण लेकर उद्घोषणा कराना
बरामद आलाजरब बतौर सबूत न्यायालय जमा करना
 मुलजिम को जेल से पेशी हेतु सुरक्षित न्यायालय पेश करना और पेशी के बाद वापस सुरक्षित जेल छोड़ना
यदि मुलजिम जेल में बीमार हो गया हो तो उपचार हेतु अस्पताल भर्ती कर उपचार करवाना और मुलजिम की सुरक्षा भी करना
मुलजिम दौराने इलाज मृत्यु हो जाने पर परिवारजनो को सुचना देना पी एम् करवाना, लाश परिवार जनो के सुपुर्द करवाना, 
यदि लाश लेजाने की व्यवस्था परिवारजनो के पास उपलब्ध नही है तो लाश को लेजाने की व्यवस्था करना निवास स्थान पहुँचाना
अज्ञात लाश का फ़ोटो करवाना, फिंगर प्रिंट करवाना, बाद पी एम करवाना, बिसरा जप्त करवाना, बाद कपड़े जप्त करवाना, तहसीलदार या न्यायिक मजिस्ट्रेट को सुचना देना, नगर पालिका को सुचना देना सुरक्षित स्थान पर धफनवाना, अज्ञात लाश का स्थानीय समाचर पत्रों में इस्तिहार निकलवाना, गजट नोटिफिकेश के लिए निकलवाना,
जप्त बिसरा ड्राप्ट तैयार करवाकर विधिक प्रयोगशाला भेजना और जाँच करवाना
मृतक के परिजन थाने पर आये तो बार-बार मृतक के कपड़े खोल कर दिखाना एवं फ़ोटो दिखाना
कपड़े एवं फ़ोटो शिनाख्त होने पर न्यायिक मजिस्ट्रेट से अनुरोध कर लाश को उखड़वाकर सुपुर्द करना
विधिक प्रयोगशाला से रिपोर्ट आने पर अपराध की स्थिति में अपराध कायम कर अपराधी की तलाश करना, अपराधी को पकड़ना
कोई गुम हो गया है तो उसकी तलाश करना
सभी प्रकार के अपराध एवं अपराधी का रिकार्ड सुरक्षित रखना
कोई लड़की या महिला भाग गई हो या कोई भगा कर लेगया होतो उसे तलाश कर पकड़ना, यदि उसके साथ हुआ हो तो अपराध की स्थिति अपराध कायम कर आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय पेश करना, साक्ष्य जुटाना, लड़की को परिवारजनो को सुरक्षित सुपुर्द करना
अनुसूचित जाति एवं जनजाति के व्यक्तियों पर अपराध होने की स्थिति में जाति प्रमाण पत्र बनवाना 
गुमशुदा के फोटो खिंचवाना एवं स्कुल से बोर्ड की अंकसूची या भर्ती दिनांक की पंजीयन की नकल प्राप्त करना, यदि लावारिस या गुमशुदा परिवारजनो के साथ नही जाना चाहते है तो न्यायिक मजिस्ट्रेट से अनुरोध कर महिला को महिला कल्याण केंद्र एवं बालको को बाल कल्याण केंद्र पर सुरक्षित पहुँचाना
कुम्भ जैसे बड़े आयोजन में चप्पे चप्पे पर जानमाल की निगरानी, यातायात की व्यवस्था एवं सुरक्षा करना

विधानसभा सत्र चलने पर ड्यूटी एवं सुरक्षा करना विधानसभा में उठाये गए पुलिस से सम्बंधित प्रश्नो के तत्परता से जवाब देना,
चरित्र सत्यापन करना,

पासपोर्ट बनवाने वालो की जाँच सत्यापन कर रिपोर्ट भिजवाना
बिना हेलमेट चेक करना
चोरी न होने देने का प्रयास करना, यदि चोरी हो भी गई तो तत्काल माल मुलजिम का पता लगाने का प्रयास करना 
रात दिन हर समय जग कर जानमाल की सुरक्षा करना
कोई भी धार्मिक त्यौहार स्वयं के घर परिवार के साथ नही मनाना
पारिवारिक एवं सामाजिक आयोजनों में समय पर नही पहुँच पाना और न ही समय देना
छुट्टी की आवश्यकता पड़ने पर अधिकारीयों के समक्ष गिड़गिड़ाना
अधिकारी की मेहरवानी से छुट्टी पर जा भी सकते हो और नही भी
आदि बहुत प्रकार की ड्यूटीयाँ  करना जिसमे भोजन-पानी एवं सोने का कोई समय नही रहता है।
अनियमित जीवनशैली जिना
जिससे नाना प्रकार बिमारियों से ग्रस्त होना,
भगवान – बस–बस—बस कर पगले… अब क्या रुलायेगा ?

चल अंदर आ जा ।”

यदि आप पुलिस हैं तो इस मैसेज को इतना फैलाओ कि हर उस आदमी को जवाब मिल जाए, जो पुलिस को लापरवाह कहता है।

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE