Kisan Andolan! किसान भोला है लेकिन मुर्ख नहीं 

*किसान भोला जरूर है पर मूर्ख नही।* 


जो किसान

खेत में टिटहरी के

अण्डे नजर आने पर

उतनी जगह की जोत

छोड़ देता है 

वो यात्रियों से भरी बस के

काँच कैसे फोड़ देता है ?
जो किसान

खड़ी फसल में

चिड़िया के अंडे/चूजे देख

उतनी फसल नहीं काटता है

वो किसी की सम्पत्ति 

कैसे लूट सकता है ?
जो किसान

पिंडाड़े में लगी आग में कूदकर

बिल्ली के बच्चे बचा लेता है

वो किसी के घर में

आग कैसे लगा देता है ?
जो किसान

दूध की एक बूंद भी

जमीन पर गिर जाने से

उसे पोंछकर माथे पर

लगा लेता है

वो उस अमृत को

सड़कों पर कैसे बहा देता है ?
जो किसान 

गाड़ी का हॉर्न बजने पर

सड़क छोड़ खड़ा हो जाता है

वो कैसे किसी का 

रास्ता रोक सकता है ?
जो किसान 

चींटी को अंडा ले जाते 

चिड़िया को धूल नहाते देख

बता सकता है कि

कब पानी आएगा 

वो कैसे किसी के

बहकावे में आयेगा ?
ये दुखद घड़ी क्यों आई

कुछ तो चूक हुई है

कुछ पुरुस्कार में फूल गए

नदी से संवाद करने वाले

किसानों से संवाद करना भूल गए।
जो किसान

अपनी फसल की 

रखवाली के लिए

खुले आसमान के नीचे

आंधी तूफान हिंसक जानवर से

नहीं डरता 

वो बन्दूक की गोली से नहीं, मीठी बोली से मानेगा।
एक बार उसके अन्दर का

दर्द अच्छे से जानिए

वो अन्नदाता है, उसे केवल मतदाता मत मानिये 

अपनी पूरी ताकत झोंकिये

किसान को *गऊ हत्यारों* के

पाले में जाने से रोकिये । मेरा सभी से विनम्र अनुरोध है कि 

*किसानों पर 🖕🏿उँगकी 👆🏻उठा कर , उनको अपने विरोध में मत करिये।*

किसान भोला जरूर है पर मूर्ख नही।

कब तक उसका व्यापारिक शोषण होगा, ओर कब तक वह आत्महत्या करता रहेगा,

 जबकि हमे किताबो में पढ़ाया गया कि👉🏻 *भारत एक कृषि प्रधान देश है और 70% कृषक है।* 

यो वो आपसे मांग क्या रहा है केवल 👉🏻 *उसकी फसल का सही दाम ,* 💸💸💸

वो भी पड़े लिखे *CA* से जुड़वा कर

            

असली ओर नकली किसान के चक्कर मे मत आइये, 

मेरे भाई 

*किसान बस एक ही है जो खेती के अलावा और कुछ नही करता।*

न उसके पास नोकरी है , ना दुकान है, ना कोई व्यवसाय है, केवल ओर केवल कृषि पर निर्भर है वो किसान है ।
*जो लोग किसानों के विरोध में बोल रहे है 👉🏻उनको मेरा खुला चैलेंज है कि वे केवल 3 सालो तक अपने सारे धंदे पानी छोड़ कर खुद खेती किसानी कर के दिखा दे* और वो भी कर्ज मुक्त प्रॉफिट वाली खेती💸💸💸

तो में उनको मान जाऊँगा । 

व्हाट्सएप्प व फेसबुक पर तो नपुंसक भी दहाड़ते है जिन्होंने कभी कुछ नही किया।
यह पोस्ट यदि *वास्तविक* व सत्य  लगे तो एक *Share जरूर करे*… 
*।। जय जवान  , जय किसान।।*
आपका

*एक किसान भाई*

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE