Nice Message! दिल की बात ना जान पाया 

​गुज़रे दिनों की भूली हुई बात की तरह

आँखों मैं जागता रहा कोई रात की तरह

मुझे उमीद थी की निभाएगा साथ मेरा

मगर वो भी बदल गया मेरे हालात की तरह

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE