Sadhu Baba vs Balak

शाम के 7 बजे।
मंदिर के पास कुछ बच्चे खेल रहे थे।
तभी 3 साधु आए और मंदिर में गए।
उजाला करने के लिए उन्होंने एक दिया जलाया।
एक साधु के मन में आया कि, क्यूँ ना बच्चों की परीक्षा ली जाए।
उन्होंने एक 8-10 साल के बालक को बुलाया…

.

.

..

.

.

.

.

जलता दिया उसके करीब रख दिया और बोले,

” बोल बेटा, ये ज्योति कहाँ से आई ?? ”

.

.

.

.

.
बालक ने कुछ देर साधु के चेहरे की ओर देखा,

फिर उस जलते दिये की ज्योति को देखा और फिर,

एक फूँक मारकर ज्योति को बुझा दिया।

.

.

.

.

.

फिर साधु से बोला—” पहले आप मुझे बताइए बाबा कि…

.

.

.

.

ज्योति कहाँ गई ?? ”

.

.

.

.

साधु ने बालक को साष्टांग दंडवत प्रणाम किया, और कहा—” तुम महान हो बेटा, भविष्य में तुम खूब तरक्की करोगे और तुम्हारी कीर्ति दूर दूर तक फैलेगी। ”
और आज वही बालक बडा हो कर

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

आप सबको ये मेसेज कर रहा  है।।

🙏🙏 💿

😀😃😀😃😜😀😃😀😃

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE